ग्लोबल गुमटी

Blog

क्यूंकि परिवर्तन ही संसार का सबसे अस्थायी सत्य है…

क्यूंकि परिवर्तन ही संसार का सबसे अस्थायी सत्य है…

#वैधानिक_चेतावनी अगर वर्तमान परिस्थितियों से त्रस्त होकर कुछ बदल डालना चाहते हैं तो आगे ना पढ़े क्योंकि हो सकता है कि इसके बाद खोपड़ी में शार्ट सर्किट हो जाये और दिमाग के फ्यूज उड़ जाये। कृपया खुद से संबंध स्थापित
एक चिठ्ठी उनके नाम जिन्हें मैंने कभी देखा ही नहीं

एक चिठ्ठी उनके नाम जिन्हें मैंने कभी देखा ही नहीं

तुम्हारी याद आ जाती है जब कोई अपनी नानी का ज़िक्र करता है और उस याद में तुम दिखती हो माँ जैसी, लाल साड़ी पहने, सर पर पल्ला डाले, माथे पर बड़ी सी लाल बिंदी…न तुम सिर्फ बहुत जल्दी इस दुनिया से चली गयी पर “पता है मेरी नानी कहती है” वाली मेरी कहानियाँ भी अपने साथ ले गयी.

प्यार, इश्क और लव कॉफ़ी….नॉट माय कप ऑफ़ टी…

प्यार, इश्क और लव कॉफ़ी….नॉट माय कप ऑफ़ टी…

मोहब्बत की ‘लत’ लगने से अच्छा मोहब्बत की ‘लात’ खा लो, और इन सब चोचलेबाज़ी से दूर रहो। लाइफ़ में पार्टनरशिप के नाम पर सिर्फ़ ‘पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप’ बची है। ‘committed’ होने के नाम पर suicide ‘commit’ करना ही बचा है। 3 मैजिकल वर्ड्स हमारे लिए हैं- या तो ‘i dont know’ या फिर ‘रिज़ल्ट आ गया।’

पहाड़ों का गुणा-गणित

पहाड़ों का गुणा-गणित

बचपन में पहाड़े रटना,नंगे पैर,कड़ी धूप में किसी पहाड़ चढ़ने से कम नहीं लगता था.दिल सिहर उठता था जब भी कोई नया पहाड़ा याद करने को दिया जाता.पर अब उम्रे के इस तीसरे दशक में अनुभव होता है कि….

पहाड़ को इन्तजार है…

पहाड़ को इन्तजार है…

आज हमें अपने अतीत पर गर्व तो है कि हमारी जननी-जन्मभूमि पहाड़ हैं, लेकिन जब हम अपने वर्तमान और भविष्य की ओर देखते है तो महसूस होता है कि हम किस प्रकार अपने अतीत को तिल-तिल मरने को छोड़ आये हैं। पुरखों के बने मकानों को दीमकों के लिए छोड़ आये हैं।

जब तक रहे गंग जमन धारा, अटल रहे विश्वास हमारा-गुनाहों का देवता

जब तक रहे गंग जमन धारा, अटल रहे विश्वास हमारा-गुनाहों का देवता

तलाश  गुनाहों के देवता की तीसरी किश्त- दिन अपनी ढलान पर था, शाम हो आई थी, और अल्लापुर मोहल्ले का एक घर रंग बिरंगी टिमटिमाती लाइटों से जगमगाता हुआ ढीकचुक ढीकचुक फ़िल्मी और भोजपुरिया गानों में डूबा था….बीच बीच में
जिंदगी@नॉर्थ कैम्पस

जिंदगी@नॉर्थ कैम्पस

डीयू का North campus यानी दिल्ली का जन्नत, यहाँ की फिजाओं में कुछ तो ऐसा है कि इससे मुहब्बत हो जाती है. यहाँ हर एक कोने में हजारों किस्से कहानियां तैरती हैं

#DearZindagi …….एक बात कहें तुमसे

#DearZindagi …….एक बात कहें तुमसे

Dear Zindagi का ट्रेलर देखा, एक ज़िन्दगी से कन्फ्यूज्ड लड़की के रोल में अलिया जिसे उसकी भाषा में कहूँ तो “रिलेशनशिप इश्यूज “ हैं उसके life कोच के करैक्टर में शाहरुख़ की कहानी सन्डे की अलसाई दोपहर जैसी लगती है-बिना
जो आपको सब कुछ बताता है, उसके बारे में भी जान लीजिये आप

जो आपको सब कुछ बताता है, उसके बारे में भी जान लीजिये आप

हम सब Google Search, Gmail, Google Maps व YouTube से भली भांति परिचित हैं। हम में से कई लोग Google द्वारा निर्मित प्लेटफॉर्म Android सॉफ्टवेयर वाले फोन प्रयोग कर रहे हैं। इसके अलावा गूगल स्वचालित कारें, AR ग्लासेस और भी
लड़कियों तुम ज्योमेट्री बॉक्स नहीं हो, हर रूप में तुम खूबसूरत हो

लड़कियों तुम ज्योमेट्री बॉक्स नहीं हो, हर रूप में तुम खूबसूरत हो

इन्टरनेट  ने अगर दुनिया को हमारे क़दमों में पहुँचाया है तो हम सभी को एक कम्पटीशन में ला कर खड़े भी कर दिया है. यहाँ रेस लगी हुई है, एक दुसरे से बेहतर होने की रेस. और इसी ने ला
तुम रह गयी मेरी हर डायरी के पहले पन्ने में हमेशा के लिये

तुम रह गयी मेरी हर डायरी के पहले पन्ने में हमेशा के लिये

मेरी अमृता आज के दिन तुम इस दुनिया को छोड़ कर चली गयी, शाम को टीवी में देखा कि “लेखिका अमृता प्रीतम का निधन ” तो कुछ अटक गया गले में, बाथरूम गयी और रो पड़ी, बहुत देर तक रोती
पापा अमृता प्रीतम से डरते हैं..

पापा अमृता प्रीतम से डरते हैं..

पापा अमृता प्रीतम से डरते हैं.. मेरे घर में मेरा एक कमरा है,और जब से मुझे एक अलग कमरा मिला है, अमृता प्रीतम मेरे कमरे में मौजूद हैं या फिर ये कहूँ कि अमृता के कमरे में मैं मौजूद हूँ
थैंक यू टाइपिस्ट..

थैंक यू टाइपिस्ट..

थैंक यू टाइपिस्ट.. कहते हैं अगर कोई आपके लिये कुछ करे तो उसे धन्यवाद करना चाहिये । जो ऐसा नहीं करता वो ख़ुदग़र्ज़ होता है । पर जाने अनजाने में हम समाज के एक ऐसे धड़े को नज़रअन्दाज़ करते आये
बाईक की पहली राइड

बाईक की पहली राइड

बाइक की पहली राईड उस दिन पापा घर पर थे- रविवार जो था , छुट्टी का दिन … तो उनकी बाइक भी हमारे अहाते में ही पड़ी थी …बाइक भी राजदूत -एक जानदार सवारी एक शानदार सवारी… हम तब आठवीं
एक करवा चौथ ऐसा भी..

एक करवा चौथ ऐसा भी..

एक करवा चौथ ऐसा भी..   करवा चौथ की भरपूर रौनक है. पूरा बाज़ार अटा पड़ा है पूजा की थालियों, फूल, मिठाई, सजावट , रंग बिरंगे कपड़ों  और हर कोने पर बैठे मेहंदी वालों से. पूर्णिया में हूँ, बोर हो
बीस रुपये का नोट..

बीस रुपये का नोट..

बीस रुपये का नोट..   पिछले तीन दिनों से घर से बस स्टैंड बस स्टैंड से मेट्रो और मेट्रो से होते हुए सरकारी दफ्तर तक आपके साथ चक्कर लगा रहा है वो। आपके पर्स की छोटी जेब में वो मैला
एक चिट्ठी की चिट्ठी

एक चिट्ठी की चिट्ठी

मैं चिट्ठी हूँ| नमस्कार साहब, मैं चिट्ठी हूँ । वही जिससे रामअवतार बाबू ने अपने प्रेम प्रसंग की शुरूआत की थी । कभी उन्होंने मुझे लिफ़ाफ़े का पीला जाम़ा पहनाया , कभी अंतर्देशीय पत्र का गहरा नीला कोट । पर
पर डायरी, मेरी आखिरी विश जानती हो क्या है?

पर डायरी, मेरी आखिरी विश जानती हो क्या है?

पर डायरी, मेरी आखिरी विश जानती हो क्या है?   डियर डायरी  पता है क्या हुआ आज ? मेरे कमरे में आकर माँ पापा मेरे पास बहुत देर तक बैठे रहे। पापा मेरी फेवरिट आइसक्रीम लेकर आये थे और हम
एक दिन जब मेरी मुझसे ही बात हुई

एक दिन जब मेरी मुझसे ही बात हुई

डिअर मैं और मेरी तुम तुम हमेशा वैसी लड़की रही हो जैसी मैं होना चाहती हूँ, मैं तुम्हें बहुत पसंद करती हूँ इसीलिए जब भी परेशान होती हूँ तुम्ही को चिट्ठी लिखती हूँ। तुम्हे सारे जादू आते हैं, तुम कन्धों
होली तो होती थी हमारे ज़माने में हमारे पांडेपुर में.. एकदम टन-टन होली

होली तो होती थी हमारे ज़माने में हमारे पांडेपुर में.. एकदम टन-टन होली

                                                  आजकल की होली आजकल की होली भी कोई होली है, एक होली मिलन का गेट
इस चहकती लड़की से इसके ‘फर्स्ट किस’ के रुमानी किस्से हर बार अलग अंदाज़ में सुने हैं

इस चहकती लड़की से इसके ‘फर्स्ट किस’ के रुमानी किस्से हर बार अलग अंदाज़ में सुने हैं

बंद घड़ी के कैद में-उम्मीद 3 बजकर 40 मिनट। वह दीवार पर टँगी एक बंद घडी को देख रही है। मैं घडी देखती हुई उस लड़की को। ये वही लड़की है जिसके साथ बारिश में भीगते हुए शम्मी कपूर के
क्यूंकि मेरी नज़रों से वो नंगी,पागल औरत नहीं जाती एक पल के लिये भी

क्यूंकि मेरी नज़रों से वो नंगी,पागल औरत नहीं जाती एक पल के लिये भी

मुझे शिकायत है तुम्हारे भगवान से   NH 27 पर जा रही थी उदयपुर से माउंट आबू के रास्ते, जब रास्ते में मुझे वो दिखी. आज भी उसके बिखरे हुए बाल, शरीर पर मांस की एक पतली लेयर और उसके
इंग्लिश इस्कूल

इंग्लिश इस्कूल

इंग्लिश इस्कूल गाँव में इंग्लिश इस्कूल तो खुल गया है पर अंगरेजी ने भी तो भारत में आकर एक नया शब्द सीख हीं लिया Caste (कास्ट)| मूल लैटिन में तो इसका अर्थ होता था शुद्ध और सबसे अलग| पुर्तगाली इसका
सविता भाभी और हमारे ऊपर थोपी हुई संस्कारिता

सविता भाभी और हमारे ऊपर थोपी हुई संस्कारिता

सविता भाभी और हमारी हिपोक्रिसी हाल ही में खबर आई की पहलाज निहलानी वाले सेंसर बोर्ड ने फिल्म बार बार देखो में सविता भाभी के ज़िक्र वाले एक सीन पर कैंची चला दी है. आप पोर्न साइट्स पर बैन लगाइये,
घर से दूर उन खूबसूरत लड़कियों के नाम…….शुक्रिया तनिष्क

घर से दूर उन खूबसूरत लड़कियों के नाम…….शुक्रिया तनिष्क

शुक्रिया तनिष्क हाल ही में तनिष्क ने अपने ज्वेलरी ब्रांड Mia का नया advertisement निकाला. बहुत ही खूबसूरती से एक कविता के धागों से पिरोया गया यह ad बताता है कि इन काम करती औरतों के लिये कुछ चीज़ें बिलकुल
खिड़की के पार एक गुड़िया

खिड़की के पार एक गुड़िया

खिड़की के पार एक गुड़िया खिड़की – बचपन में मैं हमेशा खिड़की पर बैठी एक लड़की को देखती थी, गुड़िया जैसी, एक जगह बैठे, वह हिल नहीं सकती थी, कमर के नीचे लकवा लग गया था पर यह मुझे नहीं
माँ आप मुझे ये एक रुपया रोज़ क्यों देती हो

माँ आप मुझे ये एक रुपया रोज़ क्यों देती हो

कुआँ पूजन “माँ आप मुझे ये एक रुपया रोज़ क्यों देती हो ” रिमी ने एक रूपये का सिक्का हाथ में भींचते हुए कहा .माँ ने बेटी को पुचकारते हुए कहा “शाम को जब आप दादी के साथ कीर्तन में
अलविदा अम्मा

अलविदा अम्मा

अलविदा अम्मा कल शाम को भाभी का मेसेज आया कि अम्मा नहीं रही और आँखें डबडबा गयी.अम्मा हम सबकी अम्मा थी, हमारे घर की सबसे बड़ी. और वो सही मायने में सबसे बड़ी थीं. सोचती हूँ कि अगर मेरी दादी
मैं प्यार लिखना चाहती हूँ

मैं प्यार लिखना चाहती हूँ

मैं प्यार लिखना चाहती हूँ ‘कभी धरती के तो कभी चाँद नगर के हम हैं’ वह कविताएँ लिखता है, प्रेम बुनता है, उसके शब्दों में छिपा अपना ज़िक्र पहचानकर मुस्कुराती भी हूँ| लेकिन मैं इंतज़ार नहीं करती कि अपनी कविताओं
आपकी भागीदारी