ग्लोबल गुमटी

Blog

राड़, सांड़, सोढ़ी, संन्यासी, इनसे बचे सो सेवै काशी..बनारस डायरीज 1

राड़, सांड़, सोढ़ी, संन्यासी, इनसे बचे सो सेवै काशी..बनारस डायरीज 1

कुछ है बनारस में कि अब बड़े बड़े चमचमाते मॉल आ गए हैं, जगह जगह इडली के स्टाल लग गए हैं पर बनारस है कि कशी की लंगोट को छोड़ता ही नहीं। यह बनारस ही है, जहां गंगा की धारा उलट गई, आम लंगड़ा हो गया, बातें बतरस में बदलकर किस्से और कहावत में बदल गयीं

चीन : मालिनी अवस्थी जी की नजर से…

चीन : मालिनी अवस्थी जी की नजर से…

क्यूँ हर भारतीय को एक बार चीन जरूर जाना चाहिए, बता रही हैं पद्मश्री मालिनी अवस्थी जी और साथ ही इस यात्रा से कैसे चीन के बारे में टूटे उनके पूर्वाग्रह…

सफ़र का रैन बसेरा :कुछ खूबसूरत लोग (नेपाल डायरीज 2)

सफ़र का रैन बसेरा :कुछ खूबसूरत लोग (नेपाल डायरीज 2)

सफ़र का रैन बसेरा………………कुछ खूबसूरत लोग   आप कभी अपने किसी भी यात्रा को याद करिये, एक मस्त हॉलिडे को, किसी “अमेजिंग” रोड जर्नी को ………याद किया? तो क्या बनाता है किसी भी यात्रा को ख़ास ? बिलकुल सही, साथ
क्योकि पुराने कलकत्ता को पता है कि

क्योकि पुराने कलकत्ता को पता है कि

कोलकाता के रास्ते कलकत्ता की ओर कोलकाता (kolkata)– जिसको हमारे बचपन ने कलकत्ता के नाम से जाना है| पहली बार जाना हुआ वहां| एयरपोर्ट से निकलकर वो पीली टैक्सियाँ जो कलकत्ता की ट्रेडमार्क पहचान हैं| और आगे जाने पर दिखती
कुछ नये दोस्त, ढेर सारी तस्वीरें और एक चुटकी ज़िन्दगी

कुछ नये दोस्त, ढेर सारी तस्वीरें और एक चुटकी ज़िन्दगी

ऐ ज़िन्दगी तुम पहाड़ जैसी हो, तो पहाड़ क्यूँ नहीं …नेपाल डायरीज -1 नेपाल डायरीज-1 -बस अचानक ही बैठे बैठे नेपाल का प्रोग्राम बन गया. लम्बा वीकेंड था, हमें कहीं जाना था, बिहार में हैं तो सोचा चलो नेपाल चलते
शुक्रिया ड्रैकुला पौड़ी-गढ़वाल को बख्श देने के लिए

शुक्रिया ड्रैकुला पौड़ी-गढ़वाल को बख्श देने के लिए

धनोल्टी-पार्ट -1 धनौल्टी -जिसने भी ब्रेम स्टोकर की ड्रैक्युला पढी होगी उसे कार्पेथिया की पहाड़ियों में बसे ड्रैक्युला के महल की ओर जाने के रास्ते का रीढ़ सिहरा देने वाला वर्णन जरूर याद होगा। जब बग्घी ड्रैक्युला के क्षेत्र की
आपकी भागीदारी