ग्लोबल गुमटी

नोटबंदी

ये आज के सच की तस्वीर है…

 ये आज के सच की तस्वीर है

हिन्दुस्तान टाइम्स’ के एक फोटो जर्नलिस्ट प्रवीन कुमार ने गुडगांव के एक बैंक के बाहर इस फोटो को क्लिक किया है जो नोटबंदी से परेशान एक बुजुर्ग का दर्द बयां कर रही है। कैश लेने आए बैंक की लाइन में लगे इस बुजुर्ग का दर्द छुप नहीं सका। दरअसल लाइन से अपना नंबर हट जाने पर ये बुजुर्ग वहीं खड़े-खड़े ही रोने लगा। सोशल मीडिया पर यह तस्वीर लोगों के दिलों को छू गई है। हालांकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कह चुके हैं कि नोटबंदी से हुई समस्या वादे के मुताबिक 50 दिनों के बाद समाप्त हो जाएगी।

[ggwebadd]

यह तस्वीर वायरल हो चुकी है और हिंदुस्तान टाइम्स ने इसे कैप्शन दिया है  “ और आपने कहा था कि सिर्फ अमीर रोयेंगे”।  नोटबंदी के लिये सरकारी मशीनरी तैयार नहीं थी इसी का आलम यह है कि अभी तक एटीएम के आगे लम्बी कतारें लगी हुई है, हर तीसरे एटीएम के बाहर “मशीन में कैश नहीं है” का बोर्ड लगा रहता है और अमीरों का तो पता नहीं गरीब और निम्न-मध्यम वर्ग को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

हाल ही में मैं बनारस की यात्रा पर गयी, कैश की कमी से जूझ रही थी. एटीएम की लम्बी कतारों को देख कर हिम्मत नहीं हुई तो सोचा रात में 12 बजे के करीब पैसे निकालने आउंगी. रात के 11.30 बजे एटीएम पहुंची तो एटीएम के सामने कुछ 20-25 लोगों की कतार थी, किसी ने कहा “ मैडम आप आगे चले जाइये” इससे पहले कि मैं मना करती, दूसरा कहता है “ ऐसे कैसे आगे चले जायें ये, हम क्या यहाँ झक मारने खड़े हैं, 12 बजे से पहले 2000 निकालेंगे तब तो जाकर कल कुछ धंधा करेंगे” ।

मुझे गुस्सा नहीं आया, रत्ती भर भी नहीं. मुझे पता है सब परेशान हैं। हम कैशलेस इकॉनमी के लिये तैयार नहीं हैं। उस दिन मैं करीब 40 मिनट लाइन में खड़ी रही और मुझे गुस्सा नहीं आया पर आज मुझे दुःख हुआ, मोदी जी इस उम्र के बूढ़े व्यक्ति को अपना ही पैसा निकलने के लिये कतार से छूट जाने पर रोना पड़े, वह बूढ़ा व्यक्ति जो शायद हर दिन नकद रुपयों पर जीता हो, इसके पास काला धन नहीं हो पर बैंक में कुछ हज़ार रूपये जरुर होंगे । ये आपसे देखा जा सकता होगा, हमसे नहीं।

ये आज के सच की तस्वीर है।

ये आज के अँधेरे की तस्वीर है ।

डॉ पूजा त्रिपाठी 

[ggwebadd1]

One Comment on “ये आज के सच की तस्वीर है…

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आपकी भागीदारी