ग्लोबल गुमटी

ख़त

भादों महीने की पिया का ख़त…

भादों महीने की पिया का ख़त

ऐ पिंकिया के पापा
गाँव के सारे बाहर रहने वाले लोग यह कहकर घर आ रहे है की भादो में बाहर कोई काम नहीं है। आप भी आ जाइये ना, घर इस बार। बरसात के मौसम में घर के साथ-साथ घर के अंदर भी बरसात हो रही है। एक दिन तो इतना भयंकर बरसात हुआ क़ि घर के पुरे सामान के साथ-साथ हम और पिंकिया भी भीग गए। पिंकिया तो कई दिनों तक बोखरिया गई थी। अब ठीक है। घर का खर सड़ गया है, पूरा बारिश का पानी चूकर अंदर ही आता है। आइये तो अपने पास से, कुछ गहना बेचकर, कुछ उधार पानी लगाकर अबकी बार पकिया देवाल चलाकर टीना रख देते है। फेर कमाइयेगा तो हमारा गहना ख़रीदा जाएगा।
अब पिंकिया का नाम भी लिखवाना है, बड़ी लूट मची है प्राइवेट में। एक ही स्कूल लेकिन हर साल नाम लिखवाते है, 17गो ड्रेस, महँग-महँग किताब, कोई पुराना किताब भी तो नहीं ले सकती ना, हर साल किताबे भी बदलते रहता है ।
इतना सब हमसे अकेले नहीं हो पायेगा, कुछ दिन के लिए आ जायेंगे तो हमको उबार होगा ।
हमेशा से आपकी
पिंकिया की माई

[ggwebadd]

पिंकिया के बाबूजी का ख़त (#ख़त का ज़बाब)

प्रिय पिंकिया के माई…
तुम्हारा ख़त मिल गया था, पिंकिया के तबियत को लेकर थोडा घबरा गया था। यहाँ भी अभी बरसात के कारण काम नहीं चल रहा है, ठीकेदार पुराना हिसाब भी नहीं कर रहा हैं। जो पहले का पैसा था उ तुमको भेज दिया था। ठीकेदार के पास पैसा नहीं फसाँ होता तो हम कुछ दिन के लिए आ जाते। और रहा बात घर का तो ई भादो उसी में गुजार लो, अगले साल कौनो जोगाड़ करेंगे। कल खेदारु भाई से पता किये थे, एक कोठरी में लाखो लग जा रहा है। इतना पैसा अभी कहाँ हो पायेगा।
बरसात बाद जब काम लगेगा तो ओवरटाइम काम करूँगा। तुमको तुम्हारा गहना बेचने की कौनो जरुरत नहीं है। भगवान् चाहेंगे तो अगले साल तक एक कोठरी भर का पैसा इकठ्ठा हो जायेगा।
और हो सके तो पिंकिया को सरकारी में नाम लिखवा दो, कुछ पैसा का उबार होगा।
अपना और पिंकिया का ख्याल रखना। समय पर स्कूल भेजते रहना पिंकिया को। और हां हमारे रहते तुम किसी के घर काम करने मत जाना, अभी हम जिन्दा है। जैसे ही ठीकेदार पेमेंट कर देगा, मैं तुरंत पैसा बैंक में लगा दूंगा।
हमेशा से तुम्हारा
पिंकिया का पापा

               
              देवपालिक गुप्ता

देवपालिक गुप्ता देवपालिक शिक्षा से इंजीनियर हैं पर शौक से लेखक. मूलतः पडरौना, उत्तरप्रदेश से आते हैं और आजकल नोएडा में निवास करते हैं.

 

[ggwebadd]

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आपकी भागीदारी