ग्लोबल गुमटी

mujhse raj jaisi

मुझसे मेरी राज सी मुहब्बत.. मेरे महबूब न मांग

मुझसे मेरी राज सी मुहब्बत.. मेरे महबूब न मांग..

 

शाहरुख़ खानआज तुम्हारा दिन है जब तुम केक काटो और लोग कोरस में गायें “हैप्पी बर्थडे टू यू” और फिर 90% जनता को इसके आगे का गाना नहीं आता होगा. पर ये तुम्हारा दिन है और बॉलीवुड का सुपरस्टार होने के नाते तुम इस दिन को जैसा चाहो वैसा मनाओ. बस सलमान के साथ पंगा न कर लेना यार , मीडिया की एक पूरी जमात इसी में जुट जाती है कि “ आज ये दोनों टकराये और इग्नोर कर दिया”, “ईद पर गले मिले सलमान-शाहरुख़” ………….ब्रेकिंग न्यूज़ – सलमान -शाहरुख़ में फिर से दोस्ती.

आज जब तुम्हारा बर्थडे है ही तो मैं बताती हूँ कि एक टीनएज लड़की की ज़िन्दगी में तुम कहाँ कहाँ और किस तरह आये. एक मिडिल क्लास फैमिली में बड़ी होती लड़की, जिस पर लड़की होने का होने का प्रेशर बड़ी होने के प्रेशर से ज्यादा था. ये वो दौर था जब वीसीआर में पिक्चर मंगाई जाती थी और फिल्म देखना एक सामाजिक काम होता था, पूरा मोहल्ला फिल्म देखता था, वीसीआर किसी के घर भी आये. वहां मैंने पडोसी के घर “बाज़ीगर “ देखा और ये लो उस उम्र में जब मेरा हीरो एक साइको नहीं होना चाहिये मुझे तुम पर ममता सी दया आई और मैंने कहा “साला ठीक ही किया उसने” वो एक समय था जब हम नये किराये के घर में आये थे, पैसे ज्यदा होते नहीं थे और पैसों की कमी के साथ जिल्लत अक्सर साथ ही रहती है. बाज़ीगर देख के मैंने अपने मन ही मन एक शाहरुख़ वाली लिस्ट बनायीं कि किस किस से बदला लेना है. खैर मैंने किसी से लिया नहीं और शाहरुख़ भी बाहें फैला के रोमांस की गिरफ्त में कैद हो गये.

फिर आई वो पिक्चर जो बस आई गयी कभी नहीं. दिलवाले दुल्हनिया में जो तुमने सिमरन को जीता था, अस्सी घाट की कसम हम लड़कियों को भी जीत लिया था हमेशा के लिये. मेरे पास पापा थे, कोई बाउजी नहीं. वो न अमरीश  पुरी जैसे खूंखार थे और न ही अनुपम खेर जैसे डैड, वो बस पापा थे और मुझे इस अरेंजमेंट से घोर चिढ़. ये पापा तो पढाई करने पर ज़ोर देते, कोई गाँव के पुराने दोस्त भी नहीं थे जिसके लड़के से शादी तय हो जाती जबरन और एंट्री होती मेरे राज की. अमा, ये भी कोई लाइफ हुई, बिना राज के. कोई मसाला ही नहीं, यूरोप टूर न सही शिमला मनाली टूर पर ही मुझे राज से मिला देते.

पर मुझे मेरा राज कभी नहीं मिला, वो राज जो साला घर में घुस कर दुल्हन को ही भगा ले जाये. वो राज जो आँखों में इंटेंस लुक देते हुये बोले “तुम्हें किसी की होने नहीं दूँगा”. वो राज जो परिवार में सबका दिल जीत ले, ऐसा परिवार जहाँ प्यार करना ही गुनाह है वहां लड़की की माँ ही तुम्हे भगाने को कह दे अपनी बेटी को. वो राज जो कहता है “अगर ये पलटी तो राज ये तुझसे प्यार करती है” और भले हमने ये पिक्चर 50 बार देख ली हो, लड़की के पलटने पर हम राज के लिये जब्बर खुश हो जाते हैं.

तुम कभी रुके नहीं शाहरुख़, सक्सेस झक मार के तुम्हारे पीछे आई और तुम्हें उसका गुमान भी है. जहाँ स्वदेस में तुमने अपने करियर का एक बेजोड़ परफॉरमेंस दिया वहीँ चक दे में तुमने इज्ज़त उन लोगों से भी जीती जो तुम्हें पसंद नहीं करते, मोहब्बतें में एक पूरी जनरेशन को प्यार, इश्क, मोहब्बत के चक्कर में बिगाड़ने का क्रेडिट भी तुम्हारे सर है और हर वो लड़की जो समझती है कि उसके बेस्ट फ्रेंड को उससे एंड में प्यार हो ही जायेगा उसके लिये कुछ कुछ होता है वाला राज तो प्रभु की तरह है. तुम चाहो तो पत्थर से भी रोमांस करो और हम बोलें “वाह क्या जोड़ी है”.

अगर अचानक से प्रलय आ जाये और यह संसार ख़त्म हो जाये, तो अवशेष में अगर CD/DVD मिले तो पुरातत्ववादी अपनी रिपोर्ट में लिखेंगे “ बीसवीं से इक्कीसवीं शताब्दी में यहाँ एक “लव गॉड” रहता था, जिसके घर घर में पूजा होने के संकेत मिलते हैं. बाहें फैलाये ये लव गॉड लोगों को प्यार और मोहब्बत की शिक्षा देता था और इसकी फोलोव्विंग बड़ी संख्या में थी”

आज तुम्हारे जन्मदिन पर एक कॉन्फेशन करूँ तुमसे शाहरुख़ : यूँ तो हम खांटी सलमान खान के फैन हैं पर राज वाली मुहब्बत दुसरे से नहीं हो पायी. एक ख्वाब ही रह गया कि कोई राज हो जिसे मैं कहूँ “कहा था न मैंने! कहा था न मैंने! कहा था न मैंने! पापा नहीं मानेंगे”

और पापा को वो घूरे बिना पलक झपकाए ……………..मेरे हाथ को कस के पकड़े पापा की पकड़ ढीली हो और आवाज़ गूंजे:

“ जा पूजा जा, जा जी ले अपनी ज़िन्दगी..”

 

जन्मदिन मुबारक शाहरुख़.

 

डॉ. पूजा त्रिपाठी 

3 Comments on “मुझसे मेरी राज सी मुहब्बत.. मेरे महबूब न मांग

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आपकी भागीदारी