ग्लोबल गुमटी

फिदेल कास्त्रो

फिदेल कास्त्रो की स्मृति में…

क्यूबा के पूर्व राष्ट्र प्रमुख और पांच दशकों से अधिक समय तक विश्व में अमेरिका  विरोध के अडिग स्तम्भ बने रहे फिदेल कास्त्रो का कल रात निधन हो गया. सोवियत संघ के विघटन के बाद कास्त्रो की मृत्यु से अंततः स्मृतियों में बाकी रह गए शीतयुद्ध के रंगमंच का अंतिम पर्दा भी गिर गया. ऐसे में हम याद कर रहे हैं कास्त्रो के बारे में कुछ ऐसे तथ्य जो कम ही सुने गए है.

[ggwebadd]

  • विश्व में कास्त्रो सबसे लम्बे समय तक शासन करने वाले गैर-राजशाही राष्ट्राध्यक्ष हैं. 
  • यू एन में 4 घंटे 29 मिनट के सबसे लंबे भाषण के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में इनका नाम दर्ज है। ज्ञात हो कि 1986 में तीसरे कम्युनिस्ट पार्टी कांग्रेस में इन्होंने 7 घंटे 10 मिनट की स्पीच दी।
  • 1960 में राष्ट्रसंघ में अपने भाषण में कास्त्रो ने घोषणा की कि वो एक वर्ष में क्यूबा से अशिक्षा का उन्मूलन कर देंगे. इसके बाद उन्होंने शिक्षकों और एक लाख स्वयंसेवकों को शामिल करते हुए एक विशाल अभियान छेड़ा जिससे क्यूबा की अशिक्षा दर 23% से गिरकर 4% रह गयी.
  • कास्त्रो, इंदिरा गांधी को हमेशा से अपनी बहन मानते थे। मार्च 1983 में सातवें गुटनिरपेक्ष आंदोलन के समारोह के दौरान विज्ञान भवन दिल्ली में सरेआम इंदिरा जी को गले लगाया था और इंदिरा जी शर्मा गयी थी।

इंदिरा गांधी के साथ फिदेल कास्त्रो

  • कलाई में महंगी घड़ी और हाथ में हवाना सिगार के लिए जाने जाने वाले फिदेल ने 1985 में स्वास्थ्य कारणों से सिगार छोड़ दिया था। आश्चर्य की बात यह भी है कि पूंजीवाद के विरोध के पुरोधा को रोलेक्स घड़ियों का बहुत शौक था।

रोलेक्स में फिदेल कास्त्रो

  • अपने 49 वर्षीय सत्ता काल में इन्होंने 10 अमेरिकी राष्ट्रपतियों के विरोध का सामना किया
  • फिदेल कास्त्रो ने दावा किया था कि सी.आई.ए. और दूसरी एजेंसियों ने उनकी हत्या के 634 असफल प्रयास किए थे।
  • टाइम मैगजीन ने 2012 में इन्हें दुनिया के सर्वकालिक 100 सर्वाधिक प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची में शामिल किया था।

चे ग्वेरा और ह्यूगो चावेज के बाद के बाद अब कास्त्रो भी जा चुके हैं. प्रतिरोध-संघर्ष और स्वतंत्रता के इन तीनों योद्धाओं को ग्लोबल गुमटी का सलाम.
चे ग्वेरा के साथ फिदेल कास्त्रो  चे ग्वेरा के साथ फिदेल कास्त्रो

बाईं ओर चे ग्वेरा और दायीं तस्वीर में ह्यूगो चावेज के साथ फिदेल कास्त्रो.

Manasमानस 

फेसबुक प्रोफाइल के लिए क्लिक करें.

[ggwebadd1]

2 Comments on “फिदेल कास्त्रो की स्मृति में…

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आपकी भागीदारी