ग्लोबल गुमटी

सवजीभाई धोलकिया

एक मजदूर ने बांटे करोड़ों के उपहार

गुजरात के एक व्यापारी हैं सवजीभाई धोलकिया. हरेकृष्णा एक्सपोर्ट्स के नाम से हीरा और टेक्सटाइल कंपनी के मालिक हैं और करीब 5000 से ज्यादा कर्मचारी इनकी इंडस्ट्री में काम करते हैं.

इनके यहां काम करने वाले कर्मचारी हिंदुस्तान की किसी भी कंपनी, किसी भी फैक्ट्री में काम करने वाले कर्मचारियों से ज्यादा खुशनसीब हैं. आप पूछेंगे ऐसा क्यों, तो ऐसा इसलिए कि जब इस देश में दिवाली और होली जैसे त्योहारों पर कंपनी के कर्मचारी अपनी बोनस की मांग को लेकर के हड़ताल तक कर देते हैं तो ऐसे में सवजीभाई धोलकिया ने अपने कर्मचारियों को शानदार तोहफे से नवाजा है और तोहफा भी ऐसा वैसा नहीं. बोनस में गाड़ी और घर दोनों दिया है.

अगर आपको याद हो तो पिछले साल भी सवजीभाई धोलकिया ने अपने कर्मचारियों को 491 कार 200 मकान और ज्वेलरी के बॉक्स दिवाली के बोनस में दिए थे. हालाँकि इस साल उन कर्मचारियों को जिन्हें पिछले साल बोनस मिल चुका था उन्हें नहीं मिलेगा. सवजीभाई धोलकिया की यह तमन्ना है कि उनके यहां काम करने वाले हर कर्मचारी के पास अपनी गाड़ी हो और अपना घर हो.

सोलह सौ कर्मचारियों को इस साल 51 करोड़ रुपए की 1207 कार और 400 मकान गिफ्ट में दिए जाएंगे. इसके अलावा 56 कर्मचारियों को सोने चांदी के आभूषण दिए जाएंगे

सवजी भाई ढोलकिया पे एक नज़र

सवजीभाई धोलकिया गुजरात में काका के नाम से जाने जाते हैं. गुजरात के दुधाला गांव में रहते हैं.

सन 1977 में ₹12 लेकर अपने गांव से सूरत आए थे. सूरत में सवजीभाई ने 1977 में हीरा काटने वाली एक कंपनी में मजदूर के रूप में शुरुआत की थी और उस वक्त पूरे महीने के उन्हें सिर्फ 169 रुपए मिलते थे और आज देखिए जिस कंपनी में काम करते थे उसी कंपनी के मालिक बन हजारों हजार लोगों की जिंदगी सवार रहे हैं.

 

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आपकी भागीदारी